समलैंगिक संबंध दो-क्षण भी टिकने योग्य नहीं है। हमारे धर्म में विवाह काम पर विजय प्राप्त करने के लिए है, काम-किंकर होने के लिए नहीं। समलैंगिकता में